Tuesday, September 6, 2022

 

मैंने देखा है उसे


मैंने देखा है उसे

एक छोटा सा छप्पर डाल

रहते हुए पड़ौस में

पति के साथ

करते हुए सीवर खुदाई का काम

बच्चे को बिठा देती थी

मिट्टी के ढेर पर 

 

उसकी ऊर्जा का स्रोत 

शायक उसके पति का उसके लिए प्रेम है

या फिर बच्चे के लिए उसका ममत्व 

छत्तीसगढ़ में छोड़कर

प्यारा अपना गाँव

शहर आयी है

 

पूरी श्रद्धा और लगन से करती है 

अपना काम

अपने चेहरे पर मोतियों सी चमकती

पसीने की बूँदों से लिखती रही

विकास की इबारत

बनकर सृजन-हार

 

भूल जाती वो अपनी सारी थकान 

आ बैठता जब उसका बेटा उसकी गोद में

बड़े प्यार से

आँचल की छांव में उसे दूध पिलाती

मन ही मन गुनगुनाती

फिर खो जाती सपनों के संसार में

जहां न फावड़ा होता

न कस्सी 

ना ही उसकी मेहनत से बना मिट्टी का ढेर 

जिस पर बैठकर

उसका नन्हा कान्हा

मारता था किलकारियां

वह भी काट रही है वनवास

पर खुश है 

उसका पति, उसका बच्चा है

हर पल उसके साथ 

नहीं चाहिए उसे कुछ और

दोनों जहान की खुशियां हैं उसके पास

कपड़ों में है पैबंद कोई बात नहीं

मन में नहीं है कोई बात

मड़ैया में भी मिलता है उसे

महला का सुख

क्योंकि अपने हैं उसके साथ ।

1 comment:

  1. सच जब अपनों का साथ होता है तो दुनिया अपनी मुट्ठी में बंद नज़र आती है
    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete