Tuesday, August 17, 2010

सावन के महीने में

सावन के महीने में ,
कड़कती बिजलियों के बीच
घनघोर बरसते पानी में
अकेला खड़ा मैं
तकता रहा आसमान,
निहारता रहा
सफ़ेद-काले भेड़ों से दौड़ते- भागते
बादलों के झुण्ड ।

मेरी इच्छा थी
यूँ ही मुसलाधार बरसते रहे
घने-काले घुंघराले बालों वाले मेघ,
और पड़ती रहे
उसकी शीतल फुहार
मेरे तन-मन पर
ताकि मुक्त हो जाऊं मैं
अतीत की सृजनहीनता से
बो सकूँ सृजन के नए बीज
नई सुबह में उग आने के लिए।

धो डालूं
अपना गुस्सा ,अपना कलुष ,
सावन की फुहार
बन जाये मेरा प्यार ,
बदरी बन सबको
तर कर जाऊं ,
बंजर भूमि में
स्नेह के बीज उगाऊं ।

हर युग, हर वर्ष
इस मौसम का रहा मुझे
बेसब्री से इंतजार ,
इसके साथ आये परिवर्तन का,
नवजीवन का इंतजार
जो पीढियां बनाती रहीं,
श्रृष्टिचक्र बनकर बार-बार
अपनी अंतहीन परिधि में
सबको घुमाती रही ,
देती रही वरदान
जीवन बनकर।

करूँगा अगली सुबह का इंतजार
जब फूलों की पंखुड़ियों पर,
दूब की नुकीली नोकों पर
टिकी होंगी मोतिया बूंदें
ओस की,
और हवा
अपने हिंडोले पर
हिला रही होगी
समस्त पादप-पुंजों को ।

दिखेगा नया उत्साह,
नया जीवन ,
हरियाली की शुरुआत ,
लौट जाऊंगा मैं
अपने बचपन में,
खुले आसमान के नीचे ,
बरसात में नंगे बदन
भींगता-भागता सा।

12 comments:

  1. धो डालूं अपना गुस्सा ,अपना कलुष ,
    सावन की फुहार बन जाये मेरा प्यार ,
    बदरी बन सबको तर कर जाऊं ,
    बंजर भूमि में स्नेह के बीज उगाऊं ।
    sawan kee rimjhim bunden bhi ho jayen saarthak

    ReplyDelete
  2. क्या आप "हमारीवाणी" के सदस्य हैं? हिंदी ब्लॉग संकलक "हमारीवाणी" में अपना ब्लॉग जोड़ने के लिए सदस्य होना आवश्यक है, सदस्यता ग्रहण करने के उपरान्त आप अपने ब्लॉग का पता (URL) "अपना ब्लाग सुझाये" पर चटका (click) लगा कर हमें भेज सकते हैं.

    सदस्यता ग्रहण करने के लिए यहाँ चटका (click) लगाएं.

    ReplyDelete
  3. सावन के महीने में कविता कल्पना से ओत प्रोत है जो खींच कर बाहर ले आती है और बारिश में भिगो रही है.. "ताकि मुक्त हो जाऊं मैं
    अतीत की सृजनहीनता से
    बो सकूँ सृजन के नए बीज
    नई सुबह में उग आने के लिए।"
    ये पंकितयां सावन को नया अर्थ दे रही हैं.. सावन के नया बिम्ब आपने प्रस्तुत किया है.. बहुत खूब !

    ReplyDelete
  4. kya sawan ki chhatta bikheri hai aapne.......shaandaar..:)

    ReplyDelete
  5. सावन को सृजन का त्यौहार बना दिया आपने.. सुंदर कविता !

    ReplyDelete
  6. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  7. sundar rachana, savan ko adhar maan jo socha hai sab kuchh sach men ho.

    ReplyDelete
  8. behad umdaa bimb prayog ke saath ek behatareen kavitaa dil ko chhoo gayii.

    ReplyDelete
  9. एक सच्चे, ईमानदार कवि के मनोभावों का वर्णन। बधाई।

    ReplyDelete
  10. बंजर भूमि में स्नेह के बीज ...बहुत सुन्दर ...

    ReplyDelete
  11. अतीत की सृजनहीनता से
    बो सकूँ सृजन के नए बीज
    नई सुबह में उग आने के लिए।
    धो डालूं
    अपना गुस्सा ,अपना कलुष...

    शुभकामनायें ..!

    ReplyDelete
  12. दिखेगा नया उत्साह,
    नया जीवन ,
    हरियाली की शुरुआत ,
    लौट जाऊंगा मैं
    अपने बचपन में,
    खुले आसमान के नीचे ,
    बरसात में नंगे बदन
    भींगता-भागता सा।
    आपकी इस कविता से दिल्ली में मौसम सुहाना हो गया

    ReplyDelete