Friday, September 23, 2011

अपनेपन की छाया में

दर्द के काले-घने
बादलों को
अपने सीने में
उमड़ने-घुमड़ने दो,
जमकर बरस लेने दो
मन के सूखे,
सूने आँगन में,
तोड़कर पलकों के बांध
निकल आने दो
आंसुओं की बाढ़,
बहा ले जाने दो
अपने भीतर का
सारा संताप.

मुसीबतों का अँधेरा
आएगा,छाएगा
बार-बार,बार-बार,
लगातार
पर,ठहर नहीं पायेगा,
उसका आशियाना बने
उससे पहले
जला लेना तुम
उम्मीदों के दीप
अपने भीतर,
घर के बाहर
नील गगन में भी
निकल आएगा
चमकता हुआ
दूधिया चाँद,

सूरज के उगने का
करना इन्तजार,
उसके उजाले से
जगमग हो उठेगा
सारा संसार.

अगली सुबह
अपने आँगन में बने
तुलसी के चौरे में
लगा लेना तुम
एक नन्हा सा पौधा
या, फिर लगा लेना
एक नाजुक सी बेल
डालकर
ढीली मिटटी में
एक नन्हा सा बीज,
सींचना उसे प्रतिदिन,
अपने स्नेह-जल से
रखना उसे सिक्त.

देखना उसे निरंतर
बढ़ते हुए,
धीरे-धीरे उगते हुए
पत्ती-पत्ती,डाली-डाली ,
फूलों से सजते,
फलों से लदते हुए
पल-पल,हर-पल
सुबह-दोपहर-शाम.

अपनी आँखों में बसाकर
अपनी यादों में बसा लेना,
पौध से पेड़ तक का सफ़र,
बीज से बेल तक का सफ़र
हरियाली से भर जायेगा
तेरे घर का आँगन,
खुशियों का रैन बसेरा होगा
कोना-कोना तेरा मन,
परायों की भीड़ में
मिल जाएँगे तुम्हें
ढ़ेरों अपने.
सपनों से भर जायेगा
तेरा जीवन.

दुःख की परछाई
नहीं फटकेगी तेरे पास
अपनेपन की छाया में
चैन से कट जायेगा
तेरा वर्तमान,
तेरा आनेवाला कल भी
संवर जायेगा

(छोटी बहन के लिए सस्नेह)

41 comments:

  1. वाह ,बहुत प्यारी रचना

    ReplyDelete
  2. अगली सुबह
    अपने आँगन में बने
    तुलसी के चौरे में
    लगा लेना तुम
    एक नन्हा सा पौधा
    या, फिर लगा लेना
    एक नाजुक सी बेल
    डालकर
    ढीली मिटटी में
    एक नन्हा सा बीज,
    सींचना उसे प्रतिदिन,
    अपने स्नेह-जल से
    रखना उसे सिक्त.
    बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर रचना... बहुत ही सुन्दर भाव...

    ReplyDelete
  4. जला लेना तुम
    उम्मीदों के दीप
    अपने भीतर,
    घर के बाहर
    नील गगन में भी
    निकल आएगा
    चमकता हुआ
    दूधिया चाँद,........

    वाह सुन्दर शब्द विन्याष, कोमल आशा पूर्ण भाव, सुन्दर रचना! वाह!

    ReplyDelete
  5. भुत सुन्दर .. आशा के दीप जगमाती हुयी ... दुखों को बहले जाने वाली रचना ...

    ReplyDelete
  6. बहन के लिये बहुत सुन्दर भावो का समन्वय्।

    ReplyDelete
  7. प्यारी बहन के लिये बहुत सुन्दर भावो का सागर...

    ReplyDelete
  8. भाई का यह स्नेह पूरी ज़िन्दगी को खुशहाल बनाएगा ...

    ReplyDelete
  9. जला लेना तुम
    उम्मीदों के दीप
    अपने भीतर,
    घर के बाहर
    नील गगन में भी
    निकल आएगा
    चमकता हुआ
    दूधिया चाँद

    भावपूर्ण स्टीक

    ReplyDelete
  10. त्य वचन ..कविता का हर शब्द दिल को छू गया ..भैया ...इस कविता में आपके शब्दों में खुद को महसूस किया मैंने ....आभार

    ReplyDelete
  11. लगा लेना तुम
    एक नन्हा सा पौधा
    या, फिर लगा लेना
    एक नाजुक सी बेल
    डालकर
    ढीली मिटटी में
    एक नन्हा सा बीज,
    सींचना उसे प्रतिदिन,
    अपने स्नेह-जल से
    रखना उसे सिक्त.

    शुभकामना.....

    ReplyDelete
  12. aameen...
    itna saara sneh...
    ab to sab kuchh theek hi ho jayega..
    andhera kitna bhi majboot ho
    aaj nahi to kal... kat hi jayega...

    ReplyDelete
  13. बेहतरीन शब्द चयन और बहुत ही सशक्त भावाभिव्यक्ति ! अति सुन्दर !

    ReplyDelete
  14. Dr_JOGA SINGH KAIT JOGI to me

    "अतिसुन्दर विचार साधुवाद."

    ReplyDelete
  15. shardindu kumar singh to me

    "BAHUT KHOOB."

    ReplyDelete
  16. स्नेहसिक्त शुभ सन्देश.भावपूर्ण कविता.

    ReplyDelete
  17. भावमयी स्नेहाभिव्यक्ति!!!

    ReplyDelete
  18. भाव मयी सुन्दर अभिव्यक्ति....
    सादर...

    ReplyDelete
  19. बहुत ही सुन्दर भाव
    सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर रचना... बहुत ही सुन्दर भाव...

    ReplyDelete
  21. It's a beautiful and heart touching post...I read it twice and enjoyed it!

    ReplyDelete
  22. Shashi purwar to me
    "कविता बहुत ही सुन्दर है पर ब्लॉग पर यह पेज नहीं खुल रहा , कविता का हर शब्द अनमोल मोती की तरह पिरोया है अपने , बधाई हो आपको."

    ReplyDelete
  23. जैसे बहती एक नदी...
    वाह! सुन्दर...
    सादर...

    ReplyDelete


  24. राजीव जी
    साधुवाद है !

    संबल प्रदान करती यह रचना आपकी बहन ही नहीं ,
    बल्कि सब बहनों के लिए प्रेरणा पुंज बनेगी …
    आभार !

    आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  25. rajeev jee, aisa hi sneh ham jaise bhaiyon pe bhi barsa do...:)
    bahut pyari dil se nikli hui awaaj!!
    uss bahan ko bhi pyar! jiske aap bhai ho!!

    ReplyDelete
  26. Chhoti bahan ko sundar pyara uphar prastut kiya hai aapne..
    bahut hi sundar rachna...

    ReplyDelete
  27. पौध से पेड़ तक का सफ़र,
    बीज से बेल तक का सफ़र
    सींचना उसे प्रतिदिन,
    अपने स्नेह-जल से
    रखना उसे सिक्त.....

    स्नेह , वात्सल्य , और प्रीति से भरपूर
    बहुत ही प्रभावशाली रचना .... वाह !
    बधाई स्वीकारें .
    "दानिश"

    ReplyDelete
  28. हालाँकि
    गूगल+ का प्रयोग
    समझ में नहीं आ पाया अभी तक,,
    लेकिन आपके ब्लॉग तक
    वहीं से पहुंचा हूँ
    उनका भी आभार .

    ReplyDelete
  29. bahut hi khubsurat
    अपनी आँखों में बसाकर
    अपनी यादों में बसा लेना,
    पौध से पेड़ तक का सफ़र,
    बीज से बेल तक का सफ़र
    हरियाली से भर जायेगा
    तेरे घर का आँगन,
    खुशियों का रैन बसेरा होगा
    कोना-कोना तेरा मन,
    परायों की भीड़ में
    मिल जाएँगे तुम्हें
    ढ़ेरों अपने.
    सपनों से भर जायेगा
    तेरा जीवन. wah har shabd gaharai se kahata hua .........!

    rajeev ji badhai ho .
    aapki dooseri kavita tak hum nahi pahuch pa rahe hai .post not exist dikha rahi hai . aapne google par bheji post or join par nahi samajh paye google join . sorry .
    appki post part 3 page nahi open ho raha .

    ReplyDelete
  30. बहुत बढ़िया...हर शब्द हौसला देने वाला...हर पंक्ति हिम्मत बढाने वाली....उम्मीदों का दामन हाथ में देने के लिए शुक्रिया...

    ReplyDelete
  31. मैं सच में आज खुद को भाग्यशाली समझ रही हूँ....मेरे लिए इतनी संवेदनशील शब्द...आपको जीवन की हर ख़ुशी मिले...

    ReplyDelete
  32. कोशिश करूंगी आपकी सीख ..आपकी उमीद पूरी करुँ...

    ReplyDelete
  33. प्रभावशाली रचना .... वाह !
    बधाई स्वीकारें .

    ReplyDelete
  34. रचना बहुत ही सुन्दर!

    ReplyDelete