Thursday, September 15, 2011

"बाँध के फाटक उठाओ"

आज
प्रकृति से कर घात
पहाड़ों के हृदय को
दे भारी आघात
बांधकर नदियों को
ऊंची घाटियों में
ढ़ेरों बाँध से
रोक दिया है तुमने
उनका नैसर्गिक प्रवाह.

सपना खुशहाली का देकर
छीन ली
हमारी
हरी-भरी धरती ,
ले लिया है
हमारा
सारा आकाश .

बाँध के आगे
बनाकर
छोटे-छोटे,
अपने-अपने बाँध
नदियों को बंधक बना,
दिखाकर सपने
सुनहरे भविष्य के
घर से भी हमें
बेघर कर गए,
रोजी छिनी,रोटी छिनी ,
खाने के लाले पड़ गए.

आजतक मूंदें रहे हम
अपनी आँखों के पलक
सोचकर कि खो न जाएं
ख्वाब सारे
जो हमें तुमने दिए.

जल तरल है,
वह सरल है
वह सहज ही बढ़ चलेगा,
चाहे कितनी भी हो बाधा
राह अपनी ढूंढ़ लेगा,
बनके निर्झर एक दिन वह
इस धरा को चूम लेगा

अब नहीं
बादल दिखाओ,
अब न बातों में घुमाओ
आ गया है अब समय
तुम बाँध के फाटक उठाओ,

38 comments:

  1. अच्छी रचना, प्रकृति को संरक्षित रखने का एक सुखद सन्देश देती हुई कविता !

    ReplyDelete
  2. अब नहीं
    बादल दिखाओ,
    अब न बातों में घुमाओ
    आ गया है अब समय
    तुम बाँध के फाटक उठाओ, ...samssamyik v prakriti ke sanrakshan ko prerit kartee sundar rachna.

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुन्दर रचना! प्रकृति को संरक्षित सन्देश देती हुई कविता !

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर रचना

    बधाई

    http://www.shephs.co.cc/

    ReplyDelete
  5. प्रकृति को संरक्षित रखने का एक सुखद सन्देश देती हुई बहुत सटीक
    और सुन्दर रचना...अभिव्यंजना में आप का स्वागत है...

    ReplyDelete
  6. आजतक मूंदें रहे हम
    अपनी आँखों के पलक
    सोचकर कि खो न जाएं
    ख्वाब सारे
    जो हमें तुमने दिए.
    bahut sunder rcahna.........sunder bahv se paripurn rachna ke liey aapko bahut bahut badhai

    ReplyDelete
  7. प्रकृति को संरक्षित रखने का सन्देश देती हुई सटीक और सार्थक रचना्।

    ReplyDelete
  8. अब नहीं
    बादल दिखाओ,
    अब न बातों में घुमाओ
    आ गया है अब समय
    तुम बाँध के फाटक उठाओ,


    बहुत खूब ..... प्रकृति को सोच कर लिखी गई ... सन्देश देती रचना

    ReplyDelete
  9. सार्थक सन्देश देती अच्छी रचना

    ReplyDelete
  10. सार्थक व सटीक अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  12. अपने ब्लाग् को जोड़े यहां से 1 ब्लॉग सबका

    ReplyDelete
  13. सार्थक सन्देश देती रचना...

    ReplyDelete
  14. बाँध मानव है, विज्ञान है, कृत्रिमता है, दोहरापन है. अच्छी कविता.

    ReplyDelete
  15. सुन्दर और सार्थक सन्देश देती हुई रचना ..

    ReplyDelete
  16. सुन्दर और सार्थक अभिव्यक्ति .

    ReplyDelete
  17. Shashi purwar to me

    "bahut hi sundar kruti hai ...... "

    ReplyDelete
  18. प्रेरणादायक कविता है ,अवश्य ही विचार किया जाना चाहिए।

    ReplyDelete
  19. सार्थक अभिव्यक्ति....
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  20. सटीक व सुन्दर रचना . मनन करने योग्य.

    ReplyDelete
  21. विनोद पाराशर to me

    "सुंदर रचना."

    ReplyDelete
  22. अपने-अपने बाँध
    नदियों को बंधक बना,
    दिखाकर सपने
    सुनहरे भविष्य के ......

    वाह! राजीव जी वाह! क्या सच बयानी है,वाह!

    ReplyDelete
  23. खूबसूरत प्रस्तुति है आपकी.
    सरल शब्दों में गहन अभिव्यक्ति.

    आभार.
    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.

    ReplyDelete
  24. प्रकृति को समेटने के प्रयास में मानव ही सिमट जायेगा।

    ReplyDelete
  25. बहुत ही सुन्दर रचना....

    ReplyDelete
  26. बहुत बढ़िया... सुंदर अर्थपूर्ण रचना

    ReplyDelete
  27. आ गया है अब समय
    तुम बाँध के फाटक उठाओ

    -उम्दा संदेश/आह्वान/ बस, ऐसी ही सजगतापूर्ण रचना रचते रहें...बधाई...

    ReplyDelete
  28. राजीव जी आशीर्वाद

    सुंदर रचना धन्यवाद

    ReplyDelete
  29. प्रगति की कीमत तो देनी ही पढ़ती है ...
    कुछ पाने के लिए खोना भी पढता है ...

    ReplyDelete
  30. आपकी पोस्ट ब्लोगर्स मीट वीकली (९) के मंच पर प्रस्तुत की गई है आप आइये और अपने विचारों से हमें अवगत कराइये/आप हमेशा अच्छी अच्छी रचनाएँ लिखतें रहें यही कामना है /
    आप ब्लोगर्स मीट वीकली के मंच पर सादर आमंत्रित हैं /

    ReplyDelete
  31. tremendous...
    jo taral hai, saral hai... waah...
    kitnee khoobsoorat aur kitnee prernadayak kavuta...
    bahut-bahut abhaar...

    ReplyDelete
  32. बहुत सुन्दर रचना.....

    ReplyDelete
  33. जल तरल है,
    वह सरल है
    वह सहज ही बढ़ चलेगा,
    चाहे कितनी भी हो बाधा
    राह अपनी ढूंढ़ लेगा,
    बनके निर्झर एक दिन वह
    इस धरा को चूम लेगा

    क्या बात है, अर्थपूर्ण, भावपूर्ण रचना के लिए बधाई स्वीकार करें.

    ReplyDelete
  34. bahut si sundar abhivyakti .......!

    अब नहीं
    बादल दिखाओ,
    अब न बातों में घुमाओ
    आ गया है अब समय
    तुम बाँध के फाटक उठाओ,

    bilkul sahi .........love this para

    ReplyDelete