Friday, March 12, 2010

अहसास

पा लिया है तुम्हें
लेकिन खो दिया है तुम्हें न पाने का डर
जो हमारे मन को हर पल डराता था,
तरसाता था , तड़पाता था ,
मंझधार में फंसें मन को
आशा और निराशा के हिंडोले पर झुलाता था ।
तेरे आने की बात मन को गुद-गुदाती थी ,
तेरे न आने का ख्याल और अपनी बेबसी का एहसास
अजीब सी तड़प छोड़ जाते थे ।
सपनों के संसार संजोए थे हमने ,
जहाँ हम थे,तुम थे बस ।
तेरे आते ही सब टूट गए
ख़त्म हो गई बेकरारी ,ख़त्म हो गया इन्तजार
पर निराश नहीं हैं हम ।
हमें मिल गया है तेरा क्रन्दन
मिल गयी है तेरी मुस्कान
और जीवन को मिल गया है-
एक अर्थ ।

4 comments:

  1. अनुभवों को तराशने की प्रक्रिया सुखद होती है।

    ReplyDelete
  2. "हमें मिल गया है तेरा क्रन्दन
    मिल गयी है तेरी मुस्कान
    जीवन को मिल गया है एक अर्थ । "
    राजीव जी आपकी कविता इन्ही तीन पंक्तीयोन में है... कई बार क्रंदन में भी जीवन होता है... क्रंदन से जीवन को अर्थ मिल जाता है... सुंदर एहसास...

    ReplyDelete
  3. बहुत ही अच्‍छी कविता लिखी है
    आपने काबिलेतारीफ बेहतरीन


    SANJAY KUMAR
    HARYANA
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  4. एहसास की यह अभिव्यक्ति बहुत खूब

    ReplyDelete