Monday, May 30, 2011

बैल

प्रिय बैल,
हुआ करते थे तुम
कभी वृषभान,
ढला करते थे
राजाओं की तरह
मोहरों और सिक्कों पर
सभ्यताओं के समृद्धि चिह्न बनकर,
हुआ करते थे
धरती की शान,
किसानों की जान,
देश की पहचान.

तुम्हारे कन्धों पर रखकर हल
धरती की कोख से
उगाई जाती थी
सोने जैसी लहलहाती फसल,
जोतकर गाड़ी में तुम्हें
ढोया जाता था
घर-बाहर का जरूरी सामान,
ले जाते थे तुम
लोगों को रिश्तेदारी में,
अपनों से अपनों को मिलाने का
बन जाते थे आधार.
बच्चों को मेला घुमाते थे,
लगाकर खुशियों का अम्बार
सजाते थे उनके सपनों का संसार,
बिना हिचक उठाते थे जुआ
गाड़ी का हो या हल का .

तुम होते थे
परिवार का अहम् हिस्सा,
तुम्हें भी दिया जाता था
अपनों सा प्यार,
सहलाई जाती थी तुम्हारी पीठ.
हर वर्ष होती थी
गोवर्धन पूजा
जहाँ दिया जाता था तुम्हें
ईश्वर का दर्जा,
पूजा जाता था तुम्हें
की जाती थी तेरी परिक्रमा ,
गले डाली जाती थी
ढ़ेरों रंगबिरंगी मालाएं,
बदली जाती थी
तुम्हारी रस्सियाँ
नहीं लगा पाया कोई
तुम्हारे श्रम का मोल,
तुम्हारा समर्पण
आज भी है अनमोल.

तब
राजनीतिज्ञों को भी कहाँ था
तुमसे परहेज,
गर्व से बनाते थे तुम्हें
अपना चुनाव-चिह्न,
घुमाते थे तुम्हें
शहर-शहर,गाँव-गाँव,
तुम्हारा नाम ले
लोगों को रिझाया करते थे.

आज सबने
अपना मुंह फेर लिया है,
कर लिया है दक्षिण की ओर
जब हाशिये खड़े तुम
अपने अवसान का
कर रहे हो इन्तजार

ना जाने
कितने टुकड़ों में बँटा है
तेरा अस्तित्व,
कितने अर्थों में
बांटी गई है तेरी पहचान.
आज तो मेहनतकश इंसानों के लिए
होने लगा है तेरे नाम का उपयोग ,
कहा जाने लगा है उन्हें
"बैल", "कोल्हू का बैल"
और न जाने क्या-क्या?.

आज
कहाँ देख पा रहे लोग
तुममें में अपना भविष्य
कहाँ लगा पा रहे हैं
तेरी जैव-क्षमता का अनुमान
जिसपर आ टिकेगा आनेवाला कल .

तुम तो आज भी
सिर झुकाए,
सहकर सारे अपमान
कर रहे हो
श्रम का सम्मान ,
अनवरत
दिए जा रहे हो
दधिची सा दान.

24 comments:

  1. अदभुद कविता बैल पर...

    ReplyDelete
  2. दमदार है, बैल की व्यथा!!

    तुम तो आज भी
    सिर झुकाए,
    सहकर सारे अपमान
    कर रहे हो
    श्रम का सम्मान ,
    अनवरत
    दिए जा रहे हो
    दधिची सा दान

    ReplyDelete
  3. Dr.Danda Lakhnavi to me

    वाह! आपने अति भावपूर्ण रचना लिखी है. श्रम जीवी वर्ग की करुण गाथा इस रचना में है.. बधाई!

    ReplyDelete
  4. तुम होते थे
    परिवार का अहम् हिस्सा,
    तुम्हें भी दिया जाता था
    अपनों सा प्यार,
    सहलाई जाती थी तुम्हारी पीठ.
    हर वर्ष होती थी
    गोवर्धन पूजा
    जहाँ दिया जाता था तुम्हें
    ईश्वर का दर्जा,
    पूजा जाता था तुम्हें
    की जाती थी तेरी परिक्रमा ,
    गले डाली जाती थी
    ढ़ेरों रंगबिरंगी मालाएं,
    बदली जाती थी
    तुम्हारी रस्सियाँ
    नहीं लगा पाया कोई
    तुम्हारे श्रम का मोल,
    तुम्हारा समर्पण
    आज भी है अनमोल.
    ise kahte hain sukshamta ... shaandaar rachna

    ReplyDelete
  5. uff!! rajiv sir uss soch ko salam...jo aapne Bail ko samjha...aur uske manviya pakshh ko rakha...sach me aapne uske ek ek pahlu ko ujagar kiya..hai...!! bahut bahut abhar!!

    ReplyDelete
  6. आज तो मेहनतकश इंसानों के लिए
    होने लगा है तेरे नाम का उपयोग ,
    कहा जाने लगा है उन्हें
    "बैल", "कोल्हू का बैल"
    और न जाने क्या-क्या?.

    अद्भुत संवेदना...लाज़वाब प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  7. दधीचि जैसे दान का अक्‍सर ऐसा ही सम्‍मान होता है.

    ReplyDelete
  8. पूरा परिदृश्य ही बदल गया है......
    बहुत सुंदर रचना....

    ReplyDelete
  9. wah! kitna badiya likha hai aapne... insaan hokar bail ke dil ka dard liya jaise aapne...

    ReplyDelete
  10. कितने टुकड़ों में बँटा है
    तेरा अस्तित्व,
    कितने अर्थों में
    बांटी गई है तेरी पहचान.
    आज तो मेहनतकश इंसानों के लिए
    होने लगा है तेरे नाम का उपयोग ,
    कहा जाने लगा है उन्हें
    "बैल", "कोल्हू का बैल"
    और न जाने क्या-क्या?.

    एक अलग सोच ..........अलग शब्द....बहुत खूब ..मन की भाषा और मेहनत को बैल शब्द दिया ....उस सोच को सलाम है
    वैसे आपकी सोच का कमाल है भैया ....बहुत अच्छा लिखते है आप

    ReplyDelete
  11. Sanjay bhaskar to me

    show details 7:03 PM (2 hours ago)

    राजीव जी
    नमस्कार
    मैं आपके ब्लॉग पर टिपण्णी नहीं कर पा रहा हूँ आपका टिपण्णी बॉक्स ही नहीं खुल रहा है
    इसलिए मेल द्वारा टिप्पणी भेज रहा हूँ!
    बैल पर... अद्भुत सुन्दर रचना! आपकी लेखनी की जितनी भी तारीफ़ की जाए कम है!

    ReplyDelete
  12. mahendra mishra to me

    बहुत सुन्दर कविता..

    ReplyDelete
  13. तुम तो आज भी
    सिर झुकाए,
    सहकर सारे अपमान
    कर रहे हो
    श्रम का सम्मान ,
    अनवरत
    दिए जा रहे हो
    दधिची सा दान.

    बैल पर कविता भी कोई लिखता होगा, परन्तु कविता पढकर दिल खुश हो गया. बहुत सुंदर लिखा है आपने. बधाई.

    ReplyDelete
  14. बैल श्रम व जीवन क्रम का प्रतीक है।

    ReplyDelete
  15. बैल के स्थिति को बिलकुल सही प्रस्तुत किया है आपने...मशीनीकरण होने का नुक्सान हर किसी को हो रहा है!



    कुँवर जी,

    ReplyDelete
  16. ना जाने
    कितने टुकड़ों में बँटा है
    तेरा अस्तित्व,
    कितने अर्थों में
    बांटी गई है तेरी पहचान.
    आज तो मेहनतकश इंसानों के लिए
    होने लगा है तेरे नाम का उपयोग ,
    कहा जाने लगा है उन्हें
    "बैल", "कोल्हू का बैल"
    और न जाने क्या-क्या?.....sahi....
    bahut sunder kavita

    ReplyDelete
  17. बैल के माध्यम से बदलते वक्त पर बहुत सुंदर रचना ।

    ReplyDelete
  18. आज तो मेहनतकश इंसानों के लिए
    होने लगा है तेरे नाम का उपयोग ,
    कहा जाने लगा है उन्हें
    "बैल", "कोल्हू का बैल"
    और न जाने क्या-क्या?.

    समय की विडम्बना है भाई.

    ReplyDelete
  19. मन पिघल कर आँखों से बहने लगा....

    क्या सटीक चित्रण किया है आपने...क्या व्यथा गाथा कही है...

    अभागे हैं हम...और क्या...और इस दुर्भाग्य को जीवन में उतरने वाला और कोई नहीं मनुष्य स्वयं है...

    आज स्वस्थ गायें तो फिर भी दूध के लिए रख ली जातीं हैं,पर बैल ????

    क्या कहा जाय...

    ReplyDelete
  20. इस अप्रतिम रचना के लिए साधुवाद...

    इनकी तरह टी किसी की दृष्टि भी नहीं जाती..पर इस उपेक्षित जीव की पीड़ा को त्रासदी को जिस प्रकार आपने शब्दों में बाँधा है...बहुत बहुत आभार.

    ReplyDelete
  21. Sir, I am surprised to see your command over literature. By the you were teaching us in the year 1989, you were our English Teacher and now you are doing poetry in Hindi. It's really proud to be one of your students...Sir please keep writing

    ReplyDelete
  22. Sir, I am surprised to see your command over literature. By the you were teaching us in the year 1989, you were our English Teacher and now you are doing poetry in Hindi. It's really proud to be one of your students...Sir please keep writing

    ReplyDelete