Thursday, March 3, 2011

रिश्तों का मर्म समझना है तो ..........

रिश्तों का मर्म समझना है
तो कवि हो जाओ.
फैलाना हो उजाला
अँधेरे के उसपार
तो रवि हो जाओ.
किसी बेचैन मन को
देना हो करार
तो शीतल शशि हो जाओ,
गर जानना चाहो
जल की जात
तो जलपरी हो जाओ.
रिश्तों का मर्म समझना है
तो कवि हो जाओ.

लाली देखनी हो
तो करो
उगते सूरज की बात,
गर देखना हो
हरियाली का असर
तो रेगिस्तान में
एक पौधा लगा आओ.
रिश्तों का मर्म समझना है
तो कवि हो जाओ.

समझाना चाहो
गति जीवन की
तो नदी हो जाओ,
समाना चाहो
सबको अपने भीतर
तो समंदर से अनंत हो जाओ,
रिश्तों का मर्म समझना है
तो कवि हो जाओ.

बसना है
किसी के दिल में
तो कोई दर्द-भरा गीत
बन जाओ.
रहना चाहो
किसी की आँखों में
तो एक सुदर सी छवि
बन जाओ.
रिश्तों का मर्म समझना है
तो कवि हो जाओ.

जो चाहो लेना
छांव का आनंद
तो छिप जाओ
मां के आँचल में,
जेठ की दोपहरी में
घने बरगद के तले
आ जाओ .
रिश्तों का मर्म समझना है
तो कवि हो जाओ.

गर लेना है
मौसम का मजा
तो मत घबराओ
कड़कती बिजलियों से,
गरजते मेघों से
सावन की झड़ी में
खो जाओ.
रिश्तों का मर्म समझना है
तो कवि हो जाओ.

महकना है तो महको
औरों केलिये
फूल बनकर,
जीना है तो जियो
जीवन-भर
बाग का माली बनकर
जीवन को दिशा,
एक नया अर्थ दे जाओ
रिश्तों का मर्म समझना है
तो कवि हो जाओ.

24 comments:

  1. बहुत ही भावपूर्ण रचना ! प्राकृतिक बिम्बों का बहुत सुंदरता के साथ प्रयोग किया गया है ! अति सुन्दर ! बधाई एवं शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  2. रिश्तों का मर्म समझना हो तो कवि हो जाओ ...
    लाख टके की बात !

    ReplyDelete
  3. रिश्तों का मर्म समझना है
    तो कवि हो जाओ.

    kitni sadharan si baat, lekin bahut bada arth..sach me kavi jaisa saral hriday pakar hi koi rishto ko sahi roop me nibha payega, aisa lagta hai mujhe bhi...:)

    Rajeev sir, aapke andaje-bayan ek dum alag hi hain..!

    ReplyDelete
  4. रचनात्मक अभिव्यक्ति है यह ! कवि होना अर्थात संवेदनशील होना है..

    ReplyDelete
  5. महकना है तो महको
    औरों केलिये
    फूल बनकर,
    जीना है तो जियो
    जीवन-भर
    बाग का माली बनकर
    जीवन को दिशा,
    एक नया अर्थ दे जाओ
    रिश्तों का मर्म समझना है
    तो कवि हो जाओ.

    सुन्‍दर और सहज शब्‍दों में गहन भाव समेटे

    लाजवाब प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  6. vandana gupta to me
    बेहतरीन शब्द चयन और भावाव्यक्ति…………आपकी रचनाये मन छू लेती हैं।

    ReplyDelete
  7. कवि हुए की नहीं, तो नहीं पता... हाँ पर इन सब के अहसास एक बार गुजरना है, और इसीलिए कागज़ बन जाने की तम्मना है... कहीं-न-कहीं से कोई-न-कोई हर बात लिख ही देगा...
    परन्तु खूब विश्लेषण किया है आपने..

    ReplyDelete
  8. महकना है तो महको
    औरों केलिये
    फूल बनकर,
    यही है रिश्तों का मर्म। सुन्दर रचना के लिये बधाई।

    ReplyDelete
  9. veena srivastava to me

    बसना है
    किसी के दिल में
    तो कोई दर्द-भरा गीत
    बन जाओ.
    रहना चाहो
    किसी की आँखों में
    तो एक सुदर सी छवि
    बन जाओ.
    बहुत ही खूबसूरत रचना
    कहने को शब्द नहीं....

    ReplyDelete
  10. 'रिश्तों का मर्म समझना है तो कवि हो जाओ'। रिश्‍तों में भी भाव प्रधानता होती है और काव्‍य में भी।
    बहुत खूबसूरत बात कही आपने।

    ReplyDelete
  11. कवि की दृष्टि गहरी होती है, विस्तृत होती है, सामयिक होती है। बहुत सुन्दर कविता।

    ReplyDelete
  12. एक संवेदनशील मन से निकली बेहद खूबसूरत कविता

    ReplyDelete
  13. aur us marm ko samajhker apne khaalipan ko tatolte raho

    ReplyDelete
  14. रिश्‍ते अबूझे-से और अपरिभाषित ही बेहतर.

    ReplyDelete
  15. रिश्तों का मर्म समझना है
    तो कवि हो जाओ.
    बहुत बढिया.

    ReplyDelete
  16. बहुत सुंदर प्रस्तुति
    शुभ कामनाये

    ReplyDelete
  17. रिश्तों का मर्म समझना है
    तो कवि हो जाओ.

    क्या बात है.......
    पूरी कविता अच्छी है.

    ReplyDelete
  18. रिश्तों का मर्म समझना है
    तो कवि हो जाओ.
    सही कहा

    ReplyDelete
  19. अत्यंत खूबसूरत रचना है महोदय. मजा आ गया पढके. लिखते रहिए.
    --
    विजिट करें

    ReplyDelete
  20. बहुत ही सुन्दर रचना.

    बसना है
    किसी के दिल में
    तो कोई दर्द-भरा गीत
    बन जाओ.
    रहना चाहो
    किसी की आँखों में
    तो एक सुदर सी छवि
    बन जाओ.
    रिश्तों का मर्म समझना है
    तो कवि हो जाओ.

    बहुत ही खूब.
    सलाम.

    ReplyDelete
  21. हफ़्तों तक खाते रहो, गुझिया ले ले स्वाद.
    मगर कभी मत भूलना,नाम भक्त प्रहलाद.
    होली की हार्दिक शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  22. सुन्दर रचना के लिये बधाई।

    ReplyDelete